thiruthalam      gurupeyarchi prediction 2010 - 2011
Article  
Paasuram - 3
articals
Speciality : பாசுரம் - 3
பாசுரம் மூன்று श्रीरङ्गराजचरणम्बुज राजहंसं श्रीमत्पराङ्कुश पदाम्बुजभ्रुङ्गराजं। श्रिभट्टनाथ परकाल मुख़ाब्जमित्रं श्रीवत्सचिह्न शरणं यतिराजमीडे॥ ஸ்ரீரங்க3ராஜசரணாம்பு3ஜ ராஜஹம்ஸம் ஸ்ரீ&
Paasuram - 4
articals
Speciality : பாசுரம் - 4
பாசுரம் நான்கு नित्यम् यतीन्द्र तव दिव्यवपुस्स्म्रुतौ मे सक्तं मनो भवतु वाक् गुणकीर्तनेऽसौ। क्रुत्यञ्च दास्यकरणे तु करद्वयस्य व्रुत्त्यन्तरेऽस्तु विमुख़ं करणत्रयञ्च॥ ४ நித்யம் யதீந்த்3ர! த
Paasuram - 5
articals
Speciality : பாசுரம் - 5
பாசுரம் ஐந்து अष्टाक्षराख़्य मनुराज पदत्रयार्थ निष्ठां ममात्र वितराद्य यतीन्द्र नाथ। शिष्टाग्रगण्यजन सेव्यभवत्पदाब्जे ह्रुष्टाऽस्तु नित्यमनुभुय ममास्य बुद्धिः॥ ५ அஷ்டாக்ஷராக்2ய மநுராஜ 
Paasuram - 6
articals
Speciality : பாசுரம் - 6
பாசுரம் ஆறு अल्पाऽपि मे न भवदीय पदाब्जभक्तिः शब्दादिभोग रुचिरन्वहमेधते हा। मत्पापमेव हि निदानममुष्य नान्यत् तद्वारयार्य यतिराज दयैकसिन्धो॥ ६ அல்பாऽபி மே ந ப4வதீ3ய பதா3ப்3ஜப4க்தி: Sப்3தா3தி3போ4க ரு&
Paasuram - 7
articals
Speciality : பாசுரம் - 7
பாசுரம் ஏழு व्रुत्त्या पशुर्नरवपुस्त्वहमीद्रुशोऽपि श्रुत्यादिसिद्ध निख़िलात्मगुणाश्रयोऽयम्। इत्यादरेण क्रुतिनोऽपि मिथः प्रवक्तुं अद्यापि वञ्चनपरोऽत्र यतीन्द्र वर्ते॥ ७ வ்ருத்த்யா பS
 
 
 
 
 
 
 
Copyright © 2010 Thiruhalam.com